Monday, September 1, 2008

ये क्या हुआ???

कल क्या हुआ?न जाने क्या हुआ?मेरे बुद्धि के बल्ब समान तारे चमके,उन्होंने चमक के कहा ,परिवर्तन ..और मेरे हाथों ने एक कुशल नौकर की तरह आज्ञा का पालन किया.कुछ पल बाद मैं कंप्यूटर के सामने सर पकड़ के बैठी थी ,दिमाग सोच सोच कर थक चुका था ,मुझे अपने उपर इतना गुस्सा आ रहा था की अपना सर फोड़ दूँ . पर वह याद नही आ रहा था ,जिससे मेरी सारी यादें जुड़ी थी, जिसके सहारे मैं जीवन में रोज़ आगे बढ़ रही थी,जिससे मेरा दिन होता था,जिससे शाम मुस्कुराती थी .मेरा दिल गा रहा था..... सूने शाम सबेरे,तब से हैं मेरे,जबसे गये तुम ..................मैंने उसे याद करने का हर सम्भव प्रयत्न कर लिया,फ़िर अपने मित्रो की मदद ली,पर सारे प्रयत्न विफल,अब उसे भुला देना ही एक मात्र उपाय बचा था मेरे पास। ऐसा किसी के साथ न हो की जिसे आप अपने मन मस्तिष्क में इतना बिठा ले वही कही खो जाए।
अरे आपको बताया ही नही वह कौन?अब कैसे बताऊँ ?कैसे ?फ़िर भी बताना तो पड़ेगा ।
वो .............मेरा साथी ,मेरा हमसफ़र ........मेरा .........मेरा ....ईमेल id का पासवर्ड .....
वो खो गया.हुआ यह की मेरे आराम प्रेमी मन ने ब्लॉग पर सारी पोस्ट डाल देने के बाद जब मुझे थोड़ा आराम करने को कहा ,तब मेरे सतत कार्यशील दिमाग ने कहा ...राधिका फालतू नही बैठ ,कुछ नही तो ईमेल का पासवर्ड चेंज कर .मैंने उसकी बात मानली,पासवर्ड बदला और थके हुए दिमाग ने मुझे धोखा दे दिया ,कुछ क्षण बाद वह पासवर्ड मैं भूल गई,और फ़िर शुरू हुई रामकहानी .मेरे दोनों ब्लॉग वाणी और मंथन नही खुल रहे थे,Mail बॉक्स भी नही खुल रहा था ।मैं समझ नही पा रही थी क्या करूँ ?तभी मेरे पतिदेव ऑफिस से लौट आए,उन्हें जब मैंने बताया की ऐसा हो गया हैं ,तो उनके हाथ पैर फूल गए,थरथराती आवाज़ में बोले तुम ये कैसे कर सकती हो ????अब इस सवाल का जवाब मुझे मालूम होता तो बात ही क्या थी ??बोले अब कैसे होगा,तुम ब्लॉग पर कैसे लिखोगी?हे राम !!!!!!!!!!इस सदमे से उनका ब्लड प्रेशर लो हो गया,सारा काम धाम छोड़ कर पहले उन्हें दवाई दी ,ग्लूकोस दिया।

वैसे मैंने अपने दिमाग को धोखेबाज तो कह दिया पर वह भी बिचारा क्या करे?कितने पास वर्ड याद रखे,बैंक का अलग atm का अलग,Mailid का अलग,बैंक लॉकर का अलग,कंप्यूटर का अलग, इंटरनेट का अलग ..पासवर्ड पासवर्ड और पासवर्ड ...इतने पासवर्ड और उस पर गणित की शत्रु मैं । अब कैसे बताऊँ?बचपन से ही मेरी और गणित की बनती नही ,हम दोनों में छत्तीस का आंकडा हैं,इस गणित के चक्कर में न जाने कितनी बार मैंने दोस्तों के उलहाने सहे हैं,टीचर की डांट और मम्मा की मार सही हैं ,हर विषय में, मैं 100 में से 98 कभी 97 कभी ९९ लाती और गणित में 100 में से 10,5 -6-8-3-2-और कभी तो 000000000 इस गणित ने मेरे साथ छल किया ,और कल भी इसी ने दांव साधा,मैं एक बार फ़िर इस गणित के कारण अकेली रह गई ...ब हु हु हु :-(

खैर फ़िर मन को संभाला और रात के तीन बजे तक प्रयत्न कर दो नए ब्लॉग बनाये आरोही जिसका URL हैं http://aarohijivantarang.blogspot.com/
और
वीणापाणी जिसका URL हैं http://vaniveenapani.blogspot.com/

मेरे अभी तक के वाणी और मंथन के प्रयास में आप सभी ने मेरा बहुत उत्साह वर्धन किया ,डॉ,चन्द्र कुमार जैन,महेन जी ,सुश्री लावण्या जी ,श्री दिनेश राय द्विवेदी जी,श्री राज भाटिया जी ,श्री अनुनाद सिंह जी,श्री अजित वडनेरकर जी,श्री जीतेन्द्र भगत जी,सुश्री पारुल जी ,श्री नीरज गोस्वामी जी ,श्री समीर जी,श्री अनिल पुसड़कर जी , श्री राजेश रोशन जी ,सुश्री शोभा जी,श्री अनूप शुक्ल जी,श्री सिद्धेश्वर जी,श्री तरुण जी,श्री प्रियंकर जी ,श्री शिवकुमार मिश्रा जी ,श्री कुश जी,सुश्री रंजना जी,श्री रंजन जी ,डॉ अमर कुमार जी,श्री जीतेन्द्र जी,सुश्री वर्षा जी,व सुश्री संगीता पुरी जी की मैं विशेष रूप से आभारी हूँ की आप सभी ने मेरे दोनों ब्लोग्स पढ़े,व अपनी टिप्पणिया दर्ज करवाकर मुझे रोज़ नया और अच्छा लिखने का हौसला दिया । मुझे भरोसा हैं की आप सब आगे भी मुझे इसी तरह लेखन की प्रेरणा देते रहेंगे। वाणी नामक ब्लॉग पर जो भी मैं संगीत के विषय में लिखती थी अब आपको वीणापाणी पर पढने मिलेगा,और मंथन ब्लॉग की सामग्री आरोही ब्लॉग पर उपलब्ध होगी।

आप सभी से एक और पूछना था की चूँकि मेरे पुराने ब्लोग्स खुल नही रहे इसलिए इन नए ब्लोग्स पर मैं पुराने ब्लॉग का सारा डाटा इंपोर्ट करना चाहती हूँ, वह कैसे करूँ?

आशा हैं आप मेरी पुनःमदद करेंगे ।

गीता पाठ की उम्र


शाम का समय था सिद्धिमति देवी अपने घर के देव कक्ष में बैठे भगवान के सामने हात जोड़े धीर गंभीर स्वर में मंद मंद आवाज़ में और लगभग एक ही सुर में गीता पाठ कर रही थी,उनका रोज़ का यही नियम था,शाम होते ही देवघर में जाकर दिया बाती करना और फ़िर करना गीता पाठ,कम से कम दो घंटे,उस समय उनको किसी भी तरह का हल्ला गुल्ला पसंद नही आता था,रोज़ के कम से कम दो अध्याय वे पढ़ती,भगवान श्री कृष्ण का मन ही मन स्मरण करती,स्वयं के पुण्यो का प्रतिशत बढाती, जाने कितने ही संस्कृत श्लोक ऐसे थे जिनका वे उच्चारण भी ठीक से नही कर पाती और जाने कितने श्लोको के अर्थ उन्हें आज तक पल्ले नही पड़े,हा जो कुछ भी अनुवाद उनकी मोटी सी गीता में लिखा था,उसका कुछ हिस्सा उन्होंने कंठस्थ कर लिया था,समय असमय छोटे- बडो के सामने वे उनका उल्लेख करती,और अपने घ्यान का प्रदर्शन कर धन्य धन्य हो जाती,कुछ समझे चाहे समझे इस गीता पाठ से उनको घर में और बहार विशेष सन्मान भी मिल जाता था और शाम के समय के कुछ घरेलु कामो से भी उनकी छुट्टी हो जाती थी,कुल मिलाकर गीता पाठ लिए बहुत फायदेमंद था,वे हमेशा अपनी उम्र की अन्य बहनों कोसलाह देती -बहन छोड़ो बेटे बहु की बाते,करने दो जो करना हैं तुम्हारी हो गई गीता पाठ की उम्र रोज़ करो मन को शान्ति मिलेगी,और घर जाकर बहु को जोरदार फटकर मारती,चार पैसे भी तो ला सकी मरी दहेज़ में,कभी अपनी किसी सहेली को बताती,अरे दुर्गा बहन के बेटे की बेटी तो फला तरह के कपड़े पहनती हैं और लीला बहन के घर जो फला बहन आई हैं उसकी बनारसी साड़ी उसकी काकी की ननद की बहन की बेटी की देवरानी ने प्रेस से जला दी जानकर! अक्सर यही होता हैं सच कहे तो अपवाद छोड़ दे तो यही हो रहा हैं,गीता वाचन की एक उम्र निर्धारित कर दी गई हैं,उसके बाद रोज़ थोडी देर गीता पाठ! पहले तो हमें यह जानना जरुरी हैं की गीता आख़िर क्या हैं?हमने उसे हमारा श्रेष्ट धर्मग्रन्थ बना कर देवघर की ताक पर अच्छे से लाल कपड़े में बाँध कर चदा दिया हैं,रोज़ सुबह शाम उसकी पूजा तो हम करते है,पर उसे कभी पूछा नही करते. योगेश्वर श्री कृष्ण ने अर्जुन को गीता बताई वो क्यु?इसलिए की बेटा अब तुम्हारी उम्र हो गई हैं मन की शान्ति के लिए और अपने पुण्य बढ़ाने के लिए रोज़ थोडी देर इसको पढ़ना नही ! वो उन्होंने बताई इसलिए क्युकी वीर धनुर्धर अर्जुन परिजनों के मोह में फस कर युध्द से विरत हो रहा था। समय उसे सत्य असत्य का घ्यान करवा कर धर्म का सही अर्थ व् जीवन के माने समझा कर युध्द की और प्रवृत करना आवश्यक था सही कहा जाए तो अर्जुन केवल एक माध्यम था,जिसके द्वारा प्रशन पूछे गए और पूर्णब्रह्म श्रीकृष्ण ने उनका उत्तर दिया कुछ गाकर कुछ समझाकर ...और वह हुई गीता.... श्रीमद भगवत गीता जो कही गई हमारे लिए,पृथ्वी पर जन्म लेने वाले हर व्यक्ति के लिए। हम सभी जानते हैं की जीवन सरल नही हैं,वरन अत्यन्त कठिन हैं,जब से हम समझने लगते हैं,जीवन कष्टप्रद और किसी पहेली की तरह लगने लगता हैं, जाने किती बार हमारे अंतर्मन में द्वंद छिड़ जाता हैं की हम ये करे या वो,कितनी बार ऐसा होता हैं की हम थक जाते हैं हार जाते हैं लेकिन मुश्किलें कम होने का नाम नही लेती,हम नही जान पाते की जो बात हमें सुखी कर रही हैं वह कितनी सही और कितनी ग़लत हैं,हमें जीवन में किससे किस तरह का वह्य्वार करना हैं,कब क्या कैसे करना हैं? हमारे सामने आजीवन प्रश्नों की एक श्रृंखला होती हैं,कभी उत्तर मिलते हैं कभी नही मिलते,हम युही शाख से टूटे हुए पत्ते की तरह कभी इस और कभी उसे और जाकर जीवन का रास्ता तय कर लेते हैं,और बुढापा आते ही शुरू कर देते हैं गीता पाठ!!!!! जीवन में सबसे कठिन काम होता हैं स्वयं को बदलना,समझना,सम्हालना.गीता हमें सिखाती हैं,कैसे जिया जाए,निष्काम भावना से कैसे कर्म किए जाए,स्वयं को अवानछ्नीय मोह और लोभ से कैसे दूर रखा जाए,सही कहा जाए तो गीता सम्पूर्ण जीवन दर्शन हैं,जीवन व्याख्या हैं.गीता धर्मग्रन्थ इसलिए नही हैं क्युकी कृष्ण हिंदू थे और उन्होंने एक उपदेश किया,बल्कि गीता धर्म ग्रन्थ इसलिए हैं क्युकी धर्म के बारे में कहा गया हैं "ध्रु धातु धार्नायत "और "धारयति : धर्म"अर्थात जिसने सम्पूर्ण विश्व को धारण किया हुआ हैं,जिन नियमो ने सम्पूर्ण सृष्टि को बाँध रखा हैं वह हैं धर्म,अत: गीता धर्म ग्रन्थ इसलिए हैं क्युकी वह हमें उन नियमो पर चलना सिखाता हैं जो हमें उज्जवल भविष्य,सुंदर सरल जीवन,और शान्ति की राह पर ले जाते हैं,जो जीवन का मार्ग प्रशस्त करते हैं.स्वयं पुरुषोत्तम श्रीकृष्ण ने गीता के चोथे अध्याय के १६ वे श्लोक में कहा हैं, "किम् कर्म किमकर्मेति कवयोप्त्र मोहित: तत्ते कर्म प्रव्क्ष्यामि यज्घ्यात्वा मोक्षस्येशुभात " अर्थात-इस विषय में बड़े बड़े विद्वोनो को भी भ्रम हो जाता हैं की कौन कर्म हैं और कौन अकर्म अतएव वैसा कर्म मैं तुझे बतलाता हु जिसे जान लेने से तू पाप से मुक्त होगा। मेरा विचार यह हैं की बचपन से ही गीता में क्या लिखा हैं और क्यु लिखा हैं इस बात की समझ बच्चो को देना चाहिए ,गीता पढने की सही उम्र बुढापा होकर जवानी हैं जब इन्सान को सही ग़लत की थोडी समझ चुकी होती हैं पर वो अभी भी दिग्भ्रमित होता हैं,उसे मार्गदर्शन की सबसे ज्यादा आवश्यकता होती हैं,और गीता पढ़ना याने यह नही की पढ़ डाले पॉँच अध्याय... हर श्लोक का अर्थ समझ कर उसका भावः समझ कर उसका उद्देश्य समझ कर अगर गीता पढ़ी तो वह सच्चा कर्म हुआ,सही अर्थो में गीता पठन हुआ, और गीता किसी धर्म विशेष के प्राणियो के लिए नही हर धर्म के, हर वय के,सृष्टि में जगने वाले सभी मनुष्यओ के लिए हैं,अतएव गीता पाठ करे,अभी करे, बुढापे में जाके जब बहुत सारा जीवन निकल गया,और अब सिर्फ़ दिखावे के लिए गीता पाठ किया तो वह गीता का ही नही भगवान श्रीकृष्ण का भी अपमान हैं.गीता पढ़े आज पढ़े अभी पढ़े जवानी में पढ़े,और बुढापे में भी पढ़े.पर उसको आत्मसात भी करे उसके अनुसार जीवन जिए.तभी आपके पुण्य कर्मो में बढोत्तरी होगी और आपको बुढापे में ही नही आजन्म शान्ति और सुख मिलेगा।

10 Comments - Show Original Post Collapse comments

Blogger अनुराग said...

नही पढ़े फ़िर भी अपने कर्तव्य को पूरा करे ओर अच्छे इन्सान बनकर रहे तो भी कोई बुराई नही

August 11, 2008 6:54 AM

Blogger श्रद्धा जैन said...

bhagwan ka naam sakun deta hi hai
achha insaan bhawan ko yaad karta hai
magar achha insaan banne ke liye sirf bhagwan ka naam nahi aur bhi bhaut kuch karna hai

August 11, 2008 7:28 AM

Blogger कुश एक खूबसूरत ख्याल said...

अच्छे कर्म भी उतने ही महत्वपूर्ण है जितना की अच्छा मन.. आपकी पोस्ट बहुत कुछ कहती है.. बधाई

August 11, 2008 7:47 AM

Blogger सतीश सक्सेना said...

अच्छा एवं अलग हट कर लिखा है !

August 11, 2008 9:55 AM

Blogger Ajay singh said...

जाकी रही भावना जैसी। प्रभु मुरत देखी तिन वैसी।
जीवन के प्रति हर इन्सान का अपना नजरिया होता है। फिर चाहे साक्षात् भगवान स्वयं भी अपने श्रीमुख से कुछ भी कहें, और धर्म ग्रन्थों में कहा गया भी ईश्वर कथित ही माना गया है। इसका कारण शायद यही माना जाये की भगवती की महामाया में फंसे हुए हैं॰॰॰॰॰॰॰॰
"तथापि ममतावर्त्ते मोहगर्ते निपातिताः।।
महामायाप्रभावेण संसारस्थितिकारिणा।
तन्नात्र विस्मयः कार्यो योगनिद्रा जगत्पतेः।।
महामाया हरेश्चैषा तया सम्मोह्यते जगत्।
ज्ञानिनामपि चेतांसि देवी भगवती हि सा।
बलादाकृष्य मोहाय महामाया प्रयच्छति।।"

August 11, 2008 10:27 AM

Blogger छत्तीसगढिया .. Sanjeeva Tiwari said...

बहुत सुन्‍दर विश्‍लेषण किया है आपने । अनुकरणीय ........

August 11, 2008 10:29 AM

Blogger Udan Tashtari said...

इस आलेख के लिए बहुत बधाई.

August 11, 2008 10:30 AM

Blogger Anil said...

पढने में और पढने में ज़मीन-आसमान का अन्तर है!

August 11, 2008 12:46 PM

Blogger Kheteshwar Borawat, B.tech, SASTRA UNIVERSITY said...

i started following your hindi writing just today.

you are terrific, your writings are soul touching...

kudos to you.

next time when you come up with any great thought, please do not forget to share with us..

have a lot of happiness and success..

August 16, 2008 9:16 AM

Blogger Amit K. Sagar said...

बहुत सुंदर . बेहद.

August 19, 2008 12:45 AM

"आरोही" की नयी पोस्ट पाए अपने ईमेल पर please Enter your email address

Delivered by FeedBurner