Tuesday, January 27, 2009

क्या शांभवी को मर जाना चाहिए ?

कभी कभी जिंदगी इतनी मायूस, उदास हो जाती हैं की जीने की जरा भी इच्छा नही रह जाती,लगता हैं जैसे संसार को हमारी कोई जरुरत ही नही ,हम जैसे इस दुनिया के लिए बने ही नही ,कोई साथ नही होता ,सहारा किसे कहे? इस दुनिया में कोई किसीका सहारा हो पाया हैं ? अथाह दुःखसागर के ह्रदय में आशा के चंद मोती
कब तक जीवन को सुंदर बनाने की असफल कोशिश करते रहे ?आज की तारीख उन सभीको शायद संतोष दे पायेगी जिन्हें मेरा अस्तित्व गवारा नही ।

एक सादे कागज़ पर लिखे, कुछ अति दुखद आखरी वाक्य ..................शांभवी की कलम से निकले अंतिम हारे हुए ,आसुंओ से भरे कुछ चुनिंदा वाक्य ...नही ..............शांभवी मरी नही ,वह जिंदा हैं . कहते हैं न मांगने से मौत भी नही मिलती , कोशिश तो यही थी भरपूर नींद की गोलिया खाकर अपनी जीवन कहानी खत्म कर दे ,पर जिस ईश्वर की इच्छा के बिना आज तक किसी पेड़ का एक पत्ता भी नही हिला ,उसकी इच्छा के बिना क्या उसका मृत्यु से मिलन सम्भव था ?

शांभवी ....बचपन से मुश्किलों और दुखो से लड़ती ही आई थी और विवाह के बाद शुभंकर का गुस्सैल स्वभाव और अहंकार उसे सहन नही हुआ और हजारो भारतीय दुखियारी,जीवन से हार मानने वाली स्त्रियों की तरह उसने भी इस जीवन से, मर जाना बेहतर समझा ?लेकिन ...............
वह आज मनोरोगियों के अस्पताल में दोनों पैरो से पंगु और मति से भ्रमित होकर बैठी हुई हैं ,जीवन तब कठिन था आज असहनीय हैं ।

रोज़ अख़बार उठाने पर एक न एक ख़बर किसी न किसी शांभवी के आत्महत्या करने के सफल या असफल प्रयास की होती हैं ,आख़िर क्यो?

आख़िर क्यो ?आज कल की लड़कियां जीवन से इतनी जल्दी हार मान जाती हैं ?क्यो वह मरने का प्रयत्न करने से पहले एक बार भी नही सोचती की मौत नही आई तो जीवन इससे भी दुखद हो सकता हैं ?क्यो वह दुसरे के बुरे वह्य्वार की सजा स्वयं को देती हैं ?


जीवन किसी परिकथा सा सरल कभी नही रहा हैं ,अगर जीवन इतना ही सरल होता तो कभी कोई सीता, द्रौपदी नही हुआ करती । कोई जीवन से थका दुखो से व्यथित ,जीवन के कठिन प्रश्नों के कारण उलझा हुआ अर्जुन भी हुआ नही करता ,फ़िर कृष्ण जैसे किसी सारथी की जरुरत भी नही होती जो जीवन के रथ को, जीवन के ही समरांगण में ,जीवन युद्ध की नीतिया समझाकर जीवन को सफल ,विजयी ,आनंदमय करे ।

जो लोग जीवन में बहुत आगे बढे हैं ,जो यशस्वी हैं,विजयी हैं,वह मनस्वी और तपस्वी भी होते हैं । उनके पास सुख की खदाने नही होती ,नही सारी परिस्तिथियाँ हमेशा से उनके अनुकूल होती हैं ,पर वे ;वह लोग होते हैं जो कभी हार नही मानते ,जो कभी जीवन को कम नही आंकते ,उनके के लिए थक हार कर आत्महत्या कर लेना ,या जीवन भर युही दुखसे दुखित होकर अकेले ;गमो के अंधेरे में जीना ,खुदको कमज़ोर समझना जैसा कोई पर्याय ही नही होता ,उनके लिए जीवन भर सारी मुश्किलों के जवाब में सिर्फ़ एक ही पर्याय होता हैं जीवन को जीना ,लड़कर जीना ,बिना थके ;बिना हार माने ;अपना वजूद,अपने विचार, समाज को जता कर जीना और जी भर कर जीना ,अपने जीवन को जीवन का सही अर्थ देना ।

ईश्वर ने सभी को सामान आत्मिक शक्ति और बुद्धि दी हैं ,यह हम पर हैं की हम अपनी आत्मिक शक्ति और बुद्धि का कितना और कैसे उपयोग करते हैं । माना,सभी की परिस्तिथिया समान नही होती ,कुछ लोग अधिक भावनात्मक होते हैं ,किंतु किसी भी परिस्तिथि में आत्महत्या कर लेना या घुट घुट कर जीना कोई पर्याय नही ।

नारी को शक्ति कहा जाता हैं ,वह सिर्फ़ कहने मात्र के लिए या किसी विशेष दिन पर देवी पूजा करने के लिए नही ,वह इसलिए क्योकि उसमे परिस्तिथियों को बदलने की ,बुरे पर विजय पाने की असीम शक्ति हैं । हार को जीत में बदलने की ताकत हैं .

दुःख होता हैं की स्त्री आज भी स्वयं को इतना अशक्त समझती हैं ,की स्वयं की ही शत्रु हो जाती हैं ,यह भी एक तरह की मानसिक ,और आत्मिक दुर्बलता ही हैं न ।

मुझे शांभवी की कहानी का दुखद अंत नही देखा जाता ,आइये इस कहानी का सुखद अंत देखे ।

कहते हैं ईश्वर सबके साथ बराबर न्याय करता हैं ,एक सहेली सुधा की मदद से शांभवी पुरी तरह से ठीक हो गई ,वह शुरू से अच्छी चित्रकार थी,उसने स्वयं को सम्हाला और अपने जीवन के सुख दुःख को चित्रों में ढाला ,आज वह सफल चित्रकार हैं ,आज लोग उससे प्रेरणा लेते हैं ,उसको आदर्श मानते हैं ।

यह सुखद अंत किसी भी साधारण भारतीय महिला की कथा का हो सकता हैं ,यह आप पर हैं की आप कौनसा अंत चुनना चाहेंगी ।

Friday, January 23, 2009

कैसे समझाए ?(व्यंग)

ये दुनिया भी कितनी अजीब हैं न ,तरह तरह के लोग रहते हैं यहाँ । कुछ सुखी ,कुछ दुखी ,कुछ स्वांत सुखी ,कुछ स्वांत दुखी ,कुछ चिंतनशील, गंभीर ,कुछ जिनको चिंतन,मनन आदि शब्द हमेशा ही कुनैन की गोली से कड़वे लगते हैं ,कुछ होते हैं जो जीवन को संग्राम समझते हैं उन्हें कृष्ण कहीं नज़र नही आता पर खुदको वे अर्जुन समझते हैं . कुछ ...... उनके लिए जीवन जीवन नही होता आनंदोंउत्सव होता हैं ,वे कभी सड़क पर गुनगुनाते निकलते हैं ,कभी दोस्तों पर हँसते-हँसाते . कुछ बडे मेहनती होते हैं उन्हें पढने -लिखने का भुत सवार होता हैं ,चश्मे में आँखे छुपाये दिन रात किताबो में नज़रे गडाये रहते हैं ,किताबे ही उनके लिए संसार की सबसे अनमोल वस्तु होती हैं , कुछ ? उन्हें किताबे ..........यानि सिरदर्द लगता हैं .उनकी प्रिय सखी होती हैं किताबो में लगने वाली घुन । कुछ ........जीवन में बडे बडे सपने देखते हैं , बडे -बडे सपने ,कभी कभार तो इतने बडे की जीवन खत्म होने लगता लेकिन सपना हैं की ख़त्म होने का नाम ही नही लेता।

कुछ .........सपने देखना बडा भारी जुर्म समझते हैं ,सपने वपने देखने से अच्छा जो हैं ,जैसा हैं जीवन , उसी में संतुष्ट रहना धर्म समझते हैं । कुछ दिन रात ईश्वर के नाम से रोते रहते हैं ,रे रे रे रे ब हु हु हु हु भगवान !ऐसा क्यो हुआ ?और हमें अचानक हिन्दी धारावाहिकों की याद आ जाती हैं । कुछ ....भगवान के भी भगवान होते हैं उसकी सत्ता को ही खारिज कर देते हैं ..काहे का भगवान . कुछ भगवान वगवान नही होता सब मन के भरम हैं । कुछ....के जीवन में कोई उद्देश्य ही नही होता ,बस पंथहीन दिशाहीन जीते जाते हैं ,कुछ अपनी पुरी उम्र बस अपने लक्ष्य को पाने में लगा देते हैं और जब लक्ष्य मिलता हैं तो उनके फोटो पर हार टंगा हुआ नज़र आता हैं । कुछ नई विचारधारा के प्रणेता होते हैं ,हाथो में बगावत का झंडा लिए वे खुदको विद्रोह के जुलुस में सबसे आगे खडा रखते हैं ,तो कुछ संस्कृति और संस्कारो के युगंधर होते हैं ,उनके लिए जीवन वहीं हैं जो उनको उनके बुजुर्गो ने समझाया हैं ,ऐसे लोगो से आज की पीढी के नवयुवक और युवतिया कुछ ऐसे दूर भागते हैं जैसे जंगल में शेर आने पर बिचारे सारे निर्दोष प्राणी भागते हैं ।


सच ! कितनी अजीब हैं न दुनिया ,न जाने कितने रंग भरे हैं ईश्वर ने, इस संसार रूपी चित्र में और हर रंग की अपनी एक खासियत हैं ।हम चाहते हैं, जैसा हम सोचते हैं ,वैसा कोई और भी सोचे तो जीवन कितना सुंदर हो जाए ,पर ऐसा कभी नही होता ,हम समझाते रह जाते हैं ,लोग समझते ही नही ,फ़िर लोग हमें अपनी बात समझाते हैं और हम समझते नही ,ताउम्र समझने -समझाने का कार्यक्रम वर्तमान टीवी धारावाहिकों की तरह अनवरत चलता ही रहता हैं ,चलता ही रहता हैं । उधर भगवान उलटी गिनती का कार्यक्रम भी शुरू कर देता हैं १०-९-८-७-६-५-४-३-२--------------------------इधर हम कहते -सुनाते ही रह जाते हैं ,और फ़िर पूछते हैं क्या टाइम खत्म ? जल्दी ?अभी तो कितना कुछ समझना -समझाना था,दुनिया को बतलाना था । उधर भगवान फरमान जारी कर देता हैं ,लो भाई अब इस जनम इन्हे चिडिया बनाओ ,गधा बनाओ । हम चीखते हैं .........अन्याय, अन्याय, घोर अन्याय इतने पुण्य करने के बाद चिडिया या गधे का जनम ?जिंदगी भर दूसरो की इतनी चिंता की,जग भर की सोची ,इतना समझाया उसके प्रतिफल में गधे का जन्म । नही .........


वह कहता हैं ..मैंने तुझे मनुष्य बनाया तू जीवन समझता और समझाता ही रहा जीवन भर ,जीवन को जिया ही नही अब शायद चिडिया या गधा बनके जीवन को जीना सीख जाए ।
हम निरुत्तर हो जाते हैं ........................कुछ पलो की शान्ति के बाद हम फ़िर सोचते हैं वृक्ष की उस डाल पर बैठी उस नन्ही सी चिडिया को कौनसा जीवन पाठ समझाया जा सकता हैं????????????????????????????????????????????

Wednesday, January 21, 2009

अंतर! ..........................

कल यूनिवर्सिटी जाने के लिए ऑटो चालक ने हमेशा से अलग रास्ता चुना । पुराने शहर के इलाके में आने वाली इस सड़क के दोनों तरफ़ गरीब परिवारों के घर हैं ,घर क्या हैं! छप्पर हैं ,कुछ पुरानी त्रिपाल से बनी हुई झुग्गिया ,उसमे रहने वाले गरीब लोग ,कहीं बर्तन मांजती ,कपड़े धोती ,चूल्हे पर खाना पकाती स्त्रिया,कुछ चुना परचूनी की दुकाने ,किराने के सामान की दुकाने,जहाँ का आधा सामान शायद बरसो पहले अपनी एक्स्प्यारी डेट पार कर चुका होगा . मैले कुचेले कपड़े पहने कुछ बच्चे थे ,जो एक दुसरे के पीछे चूहे बिल्ली की तरह भाग रहे थे ,कुछ माँ के साथ बैठ कर बर्तनों को लगाने वाली राख को पावडर समझ कर सज सवर रहे थे . मेरे साथ बैठी आरोही उन बच्चो को देखकर जोर जोर से हँस रही थी । कुछ आगे जाने पार मैंने देखा ,काफी लोग एक वृत्त बनाकर खड़े हैं ,वृत्त के बीचो बीच एक ८-१० साल का बच्चा ढोल बजा रहा हैं ,और उसकी ढोल की ताल से ताल मिलाकर तक़रीबन २साल, हाँ इतनी ही उम्र का बच्चा नाच रहा हैं ,न जाने क्यो यह देखकर मेरा मन भर आया और आँखों से आंसुओ की दो बुँदे अनायास ही छलक गई । मैंने सोचा ऐसा क्यो ?जब मेरी पौने दो साल की आरोही ख़ुद ही टीवी, रेडियो या म्यूजिक प्लेयर ऑन करके फिल्मी , कई बार मुझे कर्कश लगने वाले गानों पर नाचती हैं तो मेरा मन झूम उठता हैं ,उसको इस तरह नाचते देखने पर मुझे असीम सुख मीलता हैं ,आँखे तब भी इसी तरह छलछला जाती हैं ,फ़िर अभी जो आँखे छलछला आई, तो अंतर क्या हैं ?अंतर ............................................

अंतर तो सिर्फ़ इतना ही हैं की जब आरोही नाचती हैं तो वह स्वांत सुखाय नाचती हैं ,अपनी खुशी से ,अपनी मन से ,अपनी मर्जी से और यह जो बच्चा नाच रहा हैं वह नाच रहा हैं अपनी गरीबी से ,अपनी मज़बूरी से ,अपनी रोजी रोटी के लिए । अंतर तो सिर्फ़ इतना ही हैं की आरोही जब नाचती हैं तब मैं और पतिदेव इतने खुश होते हैं की कह नही सकते ,और जब यह बच्चा नाच रहा हैं तब इसके माँ पिता अपनी गरीबी पर शायद दुखी हो रहे होंगे , नृत्य करते इसके पैरो की थिरकन पर उनके ह्रदय जलते होंगे । अंतरसिर्फ़ इतना ही हैं की जब आरोही नाचती हैं तो मेरी आँखे खुशी से छलछला जाती हैं और आज इस बच्चे की मज़बूरी देखकर दुःख से छलछला आई हैं ,अंतर सिर्फ़ इतना हैं की आरोही एक समृद्ध घर की बेटी हैं और वह बच्चा एक गरीब घर का बेटा हैं ,जिसे भारत जैसे विकासशील देश में भी लगभग दो साल की उम्र से ही अपना पेट पालने की जद्दोजहद से गुजरना पड़ता हैं,दो समय के भोजन के लिए दिन में कई कई बार नाचना पड़ता हैं । दोनों बच्चे हैं ,दोनों एक ही उम्र के हैं लेकिन एक इतना सा अंतर कितना बडा और दुखद हैं !....................

Sunday, January 18, 2009

ढाई आखर प्रेम के पढ़े सो...........................

एक काफी पढ़ा लिखा लड़का,बड़ी कम्पनी का मालिक ,करोड़पति,उसकी एक मुलाकात के लिए सारे रिपोर्टर तरसते रहते हैं,उसके एक फोन से लोगो की जिंदगिया बदल जाती हैं ,वह किसी राजकुमार से कम नही,जब वह कही घुमने जाता हैं तो उसके आगे पीछे दसो गाडिया उसकी सेवा में निकलती हैं,शायद हर युवक उसके जैसा सफल और सुंदर जीवन पाना चाहे ।

एक रात एक सार्वजानिक कार्यक्रम के दौरान कर्यक्रम स्थल की कार पार्किंग में किसी का खून हो जाता हैं ,मारने वाला युवक मरने वाले को किसी डरावनी ,भुत प्रेत वाली फ़िल्म की तर्ज पर किसी भुत की तरह ही गर्दन तोड़ कर मारता हैं,वह खुनी कोई और नही वही नवयुवक हैं जिसका जिक्र मैंने अभी अभी किया ,जी हाँ वही किसी राजकुमार सा....करोड़पति ......

यह हैं फ़िल्म गजनी।

प्यार ......पनों का प्यार,परायो का प्यार , ईश्वर का प्यार , मनुष्य का प्यार,सृष्टि की गोद में पल रहे हर चेतन का प्यार.................... दुनिया प्यार में बसी हैं और पुरी दुनिया में बसा हैं प्यार, इंसान की हर छोटी सी छोटी चाहत,फितरत में बसा है प्यार प्यार जो मनुष्य की जिंदगी में रंग भरता हैं ,खुशिया देता हैं । प्यार को खो देने से ज्यादा दुःख शायद इस संसार में कोई नही । जिसके कारण हमारे प्रिय की मौत हुई ,उससे नफरत होना स्वाभाविक ही हैं ,लेकिन इस कारण खुनी बन जाना,एक नही कई खून कर देना निहायत ही ग़लत हैं ।

एक और दृश्य .......चार नव युवक ,कॉलेज में पढने वाले,जिनकी जिंदगी में कोई उद्देश्य नही ,वह दिन रात सिर्फ़ हँसते बतियाते हैं ,एक दिन अचानक किसी दुसरे देश से एक सुंदर लड़की आती हैं ,जो भारतीय सवतंत्रता संग्राम के संग्रामियों पर एक फ़िल्म बनाना चाहती हैं ,फ़िल्म में इन्हे काम मिलता हैं ,कोई भगत सिंह बनता हैं ,तो कोई दूसरा महान स्वतंत्रता सेनानी ,फ़िल्म करते करते ये नवयुवक स्वयं को महान स्वतंत्रता संग्रामी समझने लगते हैं ,जब उन्हें पता लगता हैं की उनमे से किसी का पिता और कोई नेता देश द्रोही हैं तो वह स्वयं को भगत सिंह आदि के रूप में देखने लगते हैं और बाकायदा रेडियो स्टेशन पर कब्जा कर एक एक कर उन चार : लोगो का खून कर देते हैं ,और फ़िल्म खत्म

यह थी फ़िल्म रंग दे बसंती ।

प्रेम की भावना हो या देश भक्ति की , पवित्र प्रेम का जज्बा हो हो या देश भक्ति का ,ये दोनों ही जीवन को अर्थ पूर्ण बनते हैं ,जीवन को नई दिशा देते हैं ,इंसान को इंसान बनाते हैं खुनी नही ,अपने प्रिय की म्रत्यु को जिम्मेदार व्यक्ति से बदला लेना गलत नही ,लेकिन उसका एक तरीका होना चाहिए ,मुझे समझ नही आता की गजनी में जिस करोड़पति लड़के के एक फोन से जिंदगिया बदल जाती हैं ,वह अगर गवाही देता तो आज नही तो कल उसकी प्रेयसी के खुनी को सजा नही होती? सिर्फ़ उस खुनी को मारने के लिए दसो खून करता हैं ,उसे खून करते हुए दिखाया गया हैं ,यह किस तरह की मानसिकता हैं ,माना की प्रेयसी को खो देना ,शॉर्ट टर्म मेमोरी का शिकार होजाना बहुत दुखद हैं,लेकिन इतनी हिंसा करना या दिखाया जाना कितना गलत,और नवयुवक युवतिया फ़िल्म की बड़ाई करते नही थक रहे .................................यह और भी दुखद .....पुरी तरह से फिल्मी ,स्वप्निल प्रेम की इच्छा

समाज को किन्ही चार छ: बुरे व्यक्तियों को मार कर नही सुधारा जा सकता ,नही देश को उन्नत किया जा सकता,उसके लिए कठिन संघर्ष ,तीव्र इच्छा शक्ति ,सतत प्रयत्न की आवश्यकता होती हैं । देश के स्वतंत्रता संग्रामियों ने जो हमारे देश के किया वह महज एक जोश नही था ,वह तीव्र देश भक्ति की भावना थी,देश प्रेम था ,महान त्याग था ,वह देश को स्वतंत्र करवाने के लिए लड़ते रहे ,आजीवन प्रयत्न करते रहे ,किसी फ़िल्म के जोश में आकर चार खून उन्होंने नही किए ।

अचानक किसी से प्रभावित होकर ,स्वयं को वही महसूस करने लगना ,और उसकी जोश में स्वयं को महान समझ कर किसी को मार डालना ,किसी मानसिक बीमारी का परिचायक हो सकता हैं ,देश प्रेम का नही । अगर फ़िल्म रंग दे बसंती में उन नवयुवको ने सचमुच उन स्वतंत्रता संग्रामियों के जीवन से कुछ सिखा होता तो वे इस तरह खून खच्चर नही करते ,बल्कि इसे देश द्रोहियों का अपने सत कर्मो और प्रयत्नों से समूल नाश करते ,और देश के विकास में महती भूमिका निभाते ।

संत कबीर ने कहा हैं " ढाई आखर प्रेम के पढ़े सो पंडित होय ".............पंडित होय या .......................खुनी होय ?
प्रेम इंसान को क्रोध करना सिखाता हैं,कभी कभार थोडी बहुत नफरत भी ,हो सकता हैं की प्रेम मरना-मारना भी सीखता हो पर एक साथ कई कई खून करना ,वह भी पुरी तरह से सोच विचार कर ,उतनी ही क्रूरता से ............शायद नही .

फ़िल्म बनाने वालो से तो अब अच्छी आशा करना भी व्यर्थ हैं ,लेकिन दुःख तब होता हैं जब आज के नवयुवक युवतिया ऐसी फिल्मो को देखकर वाह वाह करते नही थकते ,इन फिल्मो की तारीफों के पुल बांधते नही थकते । हो सकता हैं की कल परसों कुछ और इसी तरह की मानसिकता से ग्रस्त सिनेमा आ जाए ,प्रश्न यह हैं की हम कब तक इन्हे देखते रहेंगे और सराहते रहेंगे ?

Monday, January 12, 2009

पूरनमासी की चाँदनी

वो ५०० ग्राम बादाम तोल रहा था ,तोल मशीन ने दिखाया ४९० ग्राम ,मैंने कहा भाई ,बादाम कम हैं.....उसने पौलिथिन में कुछ और बादाम डाले.अब मशीन ने दिखाया ५१० ग्राम ...उसने चार बादाम निकाले ,मशीन ने दिखाया ५०३ ग्राम उसने १ छोटा बादाम निकाला मशीन ने दिखाया ५०१ ग्राम ....उसने एक बादाम निकाला उसके चार टुकड़े किए और एक टुकडा तोले हुए बदामो में डाला,मशीन ने दिखाया ...५०० ग्राम ,उसने पौलिथिन मुझे दी । उसे बदामो के पैसे देकर में घर को लौटने लगी,सोचने लगी ,कैसा दूकानदार हैं ,१ बादाम के भी चार टुकड़े किए। तभी आवाज़ सुनाई दी राधिका ...........मैंने पीछे मुड कर देखा ,वो मुस्कुराती मेरे पास आई ,मैंने पूछा तुम यहाँ ?उसने कहा .. मौसी के बेटे की शादी हैं ,वो मेरी शादी में १ दिन के लिए आया था और ५००० रूपये,और एक साडी दे गया था ,तो मैं भी आज सुबह ही आई ,आज ही शादी देखकर चली जाउंगी ,यहाँ उसकी होने वाली पत्नी के लिए साडी लेने आई थी ,मैं भी ५००० और साडी ही दूंगी ,मैंने हँसके उसे देखा ,उसने कहा अच्छा मैं चलती हूँ .....
मैंने कहा अरे घर तो चल...
उसने कहा तू कब आई मेरे यहाँ...?
ओहो ....
अभी जल्दी में हूँ,फ़िर कभी ॥
ठीक हैं॥
वो चली गई ..मैं फ़िर सोचने लगी बादाम ही क्या, तोले तो रिश्ते भी जाने लगे हैं ।
रिश्ते .............
कभी सोचा हैं ..रिश्तो के बिना जीवन .....
एक उदास दूर- दूर तक फैली खामोशी ....भावना शून्य ...संवेदना शून्य ह्रदय .....मानों तपती धुप में इंसानों से खाली,जीवन की चहल- पहल से खाली मरुस्थल .....गरम हवा में उड़ती रेत के थपेडे सहता अकेला सा गुमसुम रेगिस्तान ....या मासूम भोले बचपन से खाली,एक प्यारे से साथ से खाली .....कुछ भीड़ की आवाजों में मन के संगीत से खाली ,समुन्दर के सीपी सा,जो मोती से खाली.....बिल्कुल खाली..निशब्द...नीरव .....निर्जन । कुछ ऐसा ही न रिश्तो के बिना जीवन ....
सुना हैं,कभी रिश्ते ताउम्र निभते थे ,दिल से निभते थे ,प्यार से निभते थे ,विश्वास से निभते थे । तभी सुदामा के चावल और शबरी के बेर भी खाए जाते थे ,फ़िर रिश्ते छोटे -बडे ,जात बिरादरी से निभने लगे और अब रिश्ते पैसो से निभते हैं ,स्वार्थ से निभते हैं ,जरुरत से निभते हैं,तोल मोल कर निभते हैं।

सुबह उठी तो कुछ ओस की बुँदे पत्तो पर बैठी अपनी सुंदरता पर इठला रही थी ,दोपहर मे देखा तो वो कही नही थी ,रिश्ते, जब नए नए बनते हैं तो पल भर के लिए कुछ इस तरह ही सुंदर लगते हैं और बढ़ते समय के साथ इंसानों की भीड़ में कही गायब हो जाते हैं । न वक़्त उनका होता हैं ,न वो किसी के ।
पढ़े लिखे और समय के साथ बहुत कुछ सीखे हम, इन रिश्तो के बिना जीना भी सीख जाते हैं ...इन रिश्तो स्नेहिल उपस्तिथि ,इनकी पायल मे लगे घुंघुरू सी छन छन की आवाज़ को कभी टीवी ,कभी धमा धम संगीत,कभी मॉल मे होती हजारो की शॉपिंग से भुलाते हैं । लेकिन वक़्त यही नही रुकता वह आगे बढ़ता हैं ,एक दिन जीवन का सूरज ढलता हैं और हम मृत्यु की कालिमा मे सब कुछ भुलाने के लिए निकल पड़ते हैं ,लेकिन उससे कुछ पहले रास्ते दिवस और रात्रि के संधिकाल सी साँझ खड़ी मिल जाती हैं ,उसके उस सुंदर हलके ,रुपहले प्रकाश मे हम अपने जीवन की सुबह खोजने लगते हैं .....खोजने लगते हैं बचपन,तारुण्य,दोस्त ,सहेली ,साथी और रिश्ते ...हमारे अपने रिश्ते ...लगता हैं वो सब इस एक पल मे हमारे साथ हो जाए ,हमें वापस मिल जाए ...ऐसा होता नही हैं । हम,रिश्ते और रिश्तो की चाह हमेशा के लिए खो जाती हैं ।

क्यों नही रिश्ते सोने से सुनहले ,चांदनी से चमकीले ,गुनगुनी धुप से उष्ण ,सात स्वरों से सुरीले और फलो से मीठे हो सकते ?क्यों नही एक बार फ़िर ताउम्र निभने वाले रिश्ते बनाये जा सकते ?जिंदगी भर साथ रहने वाले और मौत के बाद सच्चे आसूं बहाने वाले रिश्ते हम बना सकते?


एक कोशिश तो की ही जा सकती हैं न! तोल मोल के नही दिल के रिश्ते बनाने की ............ओस की बूंदों से नही चांदनी से अमर रिश्ते बनाने की । ताकि जीवन भर इन रिश्तो की चांदनी पूरनमासी सी खिलती रहे ,जिंदगी ,जिंदगी बनती रहे ।

Thursday, January 8, 2009

हर काश पर खत्म होता एक आकाश !

वो हवा के घोडे पर बैठा जीवन के असीम आकश में सरपट भाग रहा हैं, कितनी बार चाहा की उसे रोक लू ,जैसे अल्लाउद्दीन के चिराग में जिन्न बंद रहता हैं ,वैसे ही किसी चिराग में उसे भी बंद कर लू ,वो मेरी मुठ्ठी में हो , मेरे बस में । पर वो किसी के रोकने से रुका हैं ?वो तो मनमौजी हैं ,अपनी ही चाल से चलता हैं ,अपने ही रीत से दुनिया को चलाता हैं ,शायद इसलिए ही उसे समय कहा जाता हैं ,हर बार वह यु ही हाथो से फिसल कर कही दूर ,बहुत दूर भाग जाता हैं और हम कहते रह जाते हैं............ काश.............समय हमारा होता ,काश.......... हमने उसे जी लिया होता . कभी कभी तो वह इतना याद आता हैं की जीवन की छोटी बड़ी खुशिया भी उसके ही साथ कहीं खो जाती हैं। हम फ़िर कहते हैं ,काश...........

काश.........की किताबो को अलमारी में नही दिल में कहीं कैद कर लिया होता . काश...........चांदनियो का यह शुभ्र धवल प्रकाश यु ही धरती पर हर रात फैला होता , युगों तक इसी प्राकृतिक प्रकाश का स्नेहिल सानिद्य हमें मिला होता और हम कह पाते वो देखो टूटता तारा ......काश .................किताबों में रटा रटाया कोर्स पढाने के बजाय हम बच्चो को जिन्दगी का हर रंग , किसी जादू की छड़ी से नीले आसमान में छिटक कर दिखा पाते ,उनसे कह पाते ,छु लो यह रंग,जान लो इसे अपना सा, न जाने कब यह तुम्हारे जीवन को अपने रंग में रंग जाए । काश........... टूटे हुए दिल के मोती बटोर कर एक सुंदर माला बना पाते ,काश .............आज से कुछ साल पहले हम और अधिक जिम्मेदार ,समझदार इन्सान बन पाते,काश ........... किसी जादूगरनी की तरह एक जादुई लट्टू हमारे पास होता और आने वाले हर दुःख से हम पहले ही सावधान हो जाते । काश...........खुशियों का भी बरस में एक बार मेला लगता और हम जैसे घरो में पुरे साल के गेहू ,चावल भरते हैं न, उसी तरह ही घरो में साल भर की खुशिया भर पाते । काश......... की पंछी भी बोले होते ,और उनके साथ सुर मिला कर हम जीवन गीत गाते ,जब हमारे अपने जिन्दगी की वय्स्त्ताओ में जिन्दगी को ही कहीं खोते जा रहे हैं । काश....की कभी किसी को नौकरी ही नही करनी पड़ती ,हर कोई राजा होता ,कोई रानी होती ,और छोटी राजकुमारी पेडो पर लगे रूपये तोड़ कर माँ बापू को बस खिलौना लाने की जिम्मेदारी सौपती । काश.... सपने सोती हुई आँखों में रात भर यु ही मंडराते,जब सुबह हम उन्हें पुकारा करते तो बिल्कुल हमारी माँ की तरह हमारे लिए दौडे चले आते । काश ..........की इतनी बड़ी धरती पर हर इंसान को रहने के लिए एक छोटा सा कोना मिला होता ,और हम वहां अपने सपनो का आशियाँ सजाते . ..............काश ...........जिन कृष्ण - कहनैया को हम छप्पन भोग लगाते हैं,उन्ही के छोटे- छोटे कई सारे , भूख से बिलखते रूपों को हम दो समय का पुरा खाना दे पाते । काश.....हम इतना पढ़ लिख जाने के बाद,अपनी पुरी उम्र ख़त्म होने तक ही, सच्चे ह्रदय से औरो से प्रेम करना सीख जाते ,न कोई आतंक होता न कोई अत्याचार ,दुनिया को बस बच्चो सा भोला और निर्मल बना पाते. काश .......काश....काश ..........न जाने और कितने काश..हमें जिंदगी में कभी कहने ही नही पड़ते ,इन काशो के कहने से ही तो हम जिन्दगी के कितने आकश कभी आत्नीय प्रेम का ,कभी हमारे सपनो से जुडा,कभी जिन्दगी को जिन्दगी की तरह जीने का ,अपने ही हाथो से ख़त्म कर देते हैं । जब हम काश..कह कर एक लम्बी श्वास भरते हैं तो सम्भावना के द्वार बंद हो जाते हैं और सपनो ,इच्छाओं ,आशाओं का विस्तृत ,अनंत आकाश ख़त्म हो जाता हैं । और हम कहते रह जाते हैं काश...............

Monday, January 5, 2009

क्या पति ,पत्नी का एक दुसरे की खुशी के लिए बदलना गलत हैं ?

पिछले दिनों रब ने बना दी जोड़ी फ़िल्म देखी,काफी तकनिकी और डायरेक्शन की गलतियों के बाद भी फ़िल्म चल गई ,लोगो ने इसकी कहानी की प्रशंसा भी की,पर फ़िल्म देखने के बाद मुझे इसकी कहानी ने सोचने पर मजबूर कर दिया ।

फ़िल्म में शाहरुख़ खान ने दो भूमिकाए निभाई हैं ,सुरींदर सूरी की भूमिका में वह एक बहुत सादा सरल व्यक्ति बना हैं जो अपनी पत्नी तानी से दिल ही दिल में बहुत प्यार करता हैं, पर न तो कभी उससे अपने प्यार इजहार करता हैं न उसके साथ ज्यादा बोलता हैं । दूसरी तरफ़ वह तानी को खुश करने के लिए राज भूमिका करता हैं ,जिसमे वह तानी की खुशी के लिए उनसे बाते करता हैं ,उसे हसाता हैं ,यहाँ तक की उसकी खुशी के लिए गोल गप्पे खाने की शर्त भी लगा लेता हैं और पेट ख़राब होने के बाद भी अपनी पत्नी के हाथ की बनी बिरयानी खाता हैं । कुल मिलाकर वह अपनी पत्नी से ह्रदय से प्रेम करता हैं ।

वास्तविकता के धरातल पर अगर इस कहानी की समीक्षा की जाए तो ऐसा लगता हैं की कहानी भटक गई हैं । विवाह के बाद पति और पत्नी को उम्र भर साथ रहना होता हैं ,उम्र भर एक दूर के गम और खुशियों को बाटना होता हैं,वे एक दुसरे का जीने का सहारा होते हैं ,जब एक दुखी होता हैं तो दूसरा संभालता हैं ,जब दूसरा दुखी होता हैं तो पहला उसे हसाता हैं ,यही विवाहित जीवन का अर्थ हैं,इसलिए ही एक दुसरे का साथ निभाने की कसमे और वचन लिए जाते हैं । अगर आप किसी से ह्रदय से प्रेम करते हैं चाहे वह आपकी माँ हो ,पिता हो ,भाई हो बहन हो या दोस्त तो उसकी खुशी के लिए आप क्या कुछ नही करते । ठीक उसी तरह अगर कोई पति अपनी पत्नी से प्रेम करता हैं तो उसकी खुशी के लिए वह उसके साथ घूमना फिरना ,उससे बातें करना उसके मन मुताबिक रहना शुरू कर दे तो इसमे बुराई ही क्या हैं ?हम तो इसी तरह रहेंगे ,आते ही ऑफिस से लेपटोप पर काम करना शुरू कर देंगे ,तुमसे बात भी नही करेंगे ,तुम्हे अगर पैसे की जरुरत हैं तो देंगे ,कुछ बाज़ार से सामान लाना हैं तो वह भी कर देंगे । पर क्योकि हम तुमसे सच्चा प्यार करते हैं तो तुम्हे हमारा यह अजीब सा स्वभाव भी स्वीकारना होगा । यह कैसा गुरुर हैं?

एक अच्छी लड़की यह कभी नही चाहती की उसका पति बहुत स्मार्ट हो,या बहुत पैसे वाला हो ,वह बस इतना चाहती हैं की उसका पति उसे ह्रदय से प्रेम करे ,उसे पति के रूप में एक मित्र की जरुरत होती हैं ,जो उसकी सारी बाते सुने ,उसकी हर छोटी बड़ी खुशी में अपनी खुशी जाहिर करे ,उसके दुःख को अपना कहे,जब वो रोये तो अपने पति के कंधे पर सर रखकर रो सके । और इसी दुविधा में तानी भी होती हैं ,एक तरफ़ राज जो उसकी सब बात समझता हैं,उसको जीने के लिए सहारा देता हैं ,उसे हँसाने के लिए क्या कुछ नही करता ,और एक तरफ़ सुरींदर बाबु ,जो उसे मन से प्यार तो करता हैं , उसे जरुरत के समय पैसा देता हैं ,उसे डांस सिखने से भी नही रोकता ,उसके पिता की इच्छा का सम्मान करते हुए उससे शादी भी कर लेता हैं । तानी चुने तो किसे ?क्योकि वो जानती हैं की सुरींदर भी बहुत अच्छा इन्सान हैं ,उससे बहुत प्रेम करता हैं और राज भी,पर राज के साथ वह ख़ुद को बहुत खुश पाती हैं ,और सुरींदर के साथ ख़ुद को सिर्फ़ एक कर्तव्य पूर्ण करने वाली पत्नी के रूप में ,एक तरफ़ सम्मान होता हैं जो वह सुरींदर का करती हैं और दूसरी तरफ़ प्रेम ,जो वह राज से करती हैं । भई तानी तो भाग्यशाली थी उसने दोनों रूप में अपने पति को ही चाहा ,पर एक आम लड़की अगर ह्रदय से अपने पति को चाहती हैं,आजन्म इस रिश्ते का सम्मान भी करती हैं ,पति की खुशी के लिए कितना कुछ करती हैं ,वो अगर चाहे की उसका पति उसकी भावनाओ का सम्मान करे,उससे बाते करे ,उसकी इच्छाओ को समझे,उसका दोस्त बन के रहे तो क्या ग़लत हैं ?क्योकि सुरींदर के दोस्त का ही वाक्य"कोई भी भगवान नही होता सब इन्सान ही होते हैं"इसका मतलब यह नही की पत्नी किसी और के साथ भाग जाए ,यह तो बेहद गलत हैं ,किंतु वह अपने पति से थोड़ा सा साथ ,मित्रवत वह्य्वार चाहे तो कुछ भी गलत नही हैं ।

इति
वीणा साधिका
राधिका

Friday, January 2, 2009

उसे देखा हैं पहले भी कहीं ..............



लगता हैं ,जैसे उसे देखा हैं पहले भी कहीं ।
कहाँ? ये याद नही ।
शायद मेरे सपनो में ,
मेरी कल्पनाओ में ,
मेरी भावनाओ में ।

शायद...नीले बादलो में,
टीमटिमाते तारो में,
वासंती बहारो में ,

शायद...
कभी कहीं किसी मोड़ पर ,
इस या उस जनम के छोर पर,
रात को दिन बनाती भोर पर ।

उसे देखा हैं कहीं ....
इसी तरह मुस्कुराते हुए ,
रुठते- मनाते हुए ,
हँसते खिलखिलाते हुए ,
गाते लजाते हुए ,

देखा हैं कहीं ....
शायद ...अपने ही चेहरे में ,
वास्तविकता से बहरे
अंतर्मन के सुंदर सेहरे में ,

उसे देखा हैं मैंने कहीं ...
कहाँ ये जानती नही ...

पर हर पल आती जाती साँस मुझे बताती हैं ,
वह युगों से मेरी हैं ,मेरी सखी सहेली हैं ।
मेरी 'बेटी' सात सुर हैं मेरे, साथी जन्मो के ,
औरो के लिए भले वो नये गीत सी नवेली हैं ।
"आरोही" की नयी पोस्ट पाए अपने ईमेल पर please Enter your email address

Delivered by FeedBurner