Wednesday, January 21, 2009

अंतर! ..........................

कल यूनिवर्सिटी जाने के लिए ऑटो चालक ने हमेशा से अलग रास्ता चुना । पुराने शहर के इलाके में आने वाली इस सड़क के दोनों तरफ़ गरीब परिवारों के घर हैं ,घर क्या हैं! छप्पर हैं ,कुछ पुरानी त्रिपाल से बनी हुई झुग्गिया ,उसमे रहने वाले गरीब लोग ,कहीं बर्तन मांजती ,कपड़े धोती ,चूल्हे पर खाना पकाती स्त्रिया,कुछ चुना परचूनी की दुकाने ,किराने के सामान की दुकाने,जहाँ का आधा सामान शायद बरसो पहले अपनी एक्स्प्यारी डेट पार कर चुका होगा . मैले कुचेले कपड़े पहने कुछ बच्चे थे ,जो एक दुसरे के पीछे चूहे बिल्ली की तरह भाग रहे थे ,कुछ माँ के साथ बैठ कर बर्तनों को लगाने वाली राख को पावडर समझ कर सज सवर रहे थे . मेरे साथ बैठी आरोही उन बच्चो को देखकर जोर जोर से हँस रही थी । कुछ आगे जाने पार मैंने देखा ,काफी लोग एक वृत्त बनाकर खड़े हैं ,वृत्त के बीचो बीच एक ८-१० साल का बच्चा ढोल बजा रहा हैं ,और उसकी ढोल की ताल से ताल मिलाकर तक़रीबन २साल, हाँ इतनी ही उम्र का बच्चा नाच रहा हैं ,न जाने क्यो यह देखकर मेरा मन भर आया और आँखों से आंसुओ की दो बुँदे अनायास ही छलक गई । मैंने सोचा ऐसा क्यो ?जब मेरी पौने दो साल की आरोही ख़ुद ही टीवी, रेडियो या म्यूजिक प्लेयर ऑन करके फिल्मी , कई बार मुझे कर्कश लगने वाले गानों पर नाचती हैं तो मेरा मन झूम उठता हैं ,उसको इस तरह नाचते देखने पर मुझे असीम सुख मीलता हैं ,आँखे तब भी इसी तरह छलछला जाती हैं ,फ़िर अभी जो आँखे छलछला आई, तो अंतर क्या हैं ?अंतर ............................................

अंतर तो सिर्फ़ इतना ही हैं की जब आरोही नाचती हैं तो वह स्वांत सुखाय नाचती हैं ,अपनी खुशी से ,अपनी मन से ,अपनी मर्जी से और यह जो बच्चा नाच रहा हैं वह नाच रहा हैं अपनी गरीबी से ,अपनी मज़बूरी से ,अपनी रोजी रोटी के लिए । अंतर तो सिर्फ़ इतना ही हैं की आरोही जब नाचती हैं तब मैं और पतिदेव इतने खुश होते हैं की कह नही सकते ,और जब यह बच्चा नाच रहा हैं तब इसके माँ पिता अपनी गरीबी पर शायद दुखी हो रहे होंगे , नृत्य करते इसके पैरो की थिरकन पर उनके ह्रदय जलते होंगे । अंतरसिर्फ़ इतना ही हैं की जब आरोही नाचती हैं तो मेरी आँखे खुशी से छलछला जाती हैं और आज इस बच्चे की मज़बूरी देखकर दुःख से छलछला आई हैं ,अंतर सिर्फ़ इतना हैं की आरोही एक समृद्ध घर की बेटी हैं और वह बच्चा एक गरीब घर का बेटा हैं ,जिसे भारत जैसे विकासशील देश में भी लगभग दो साल की उम्र से ही अपना पेट पालने की जद्दोजहद से गुजरना पड़ता हैं,दो समय के भोजन के लिए दिन में कई कई बार नाचना पड़ता हैं । दोनों बच्चे हैं ,दोनों एक ही उम्र के हैं लेकिन एक इतना सा अंतर कितना बडा और दुखद हैं !....................
"आरोही" की नयी पोस्ट पाए अपने ईमेल पर please Enter your email address

Delivered by FeedBurner