Wednesday, August 11, 2010

दुआए कबुल होती हैं ..........

कभी कभी कोई सुबह अपने स्वर्णिम रंगों के साथ एक सुखद आश्चर्य लेकर आती हैं .किसी सुबह आप जागते हैं रोज रोज का वही दिनक्रम बिताने ,किसी मशीन से यंत्रवत काम करते जाते हैं,पहाड़ सा दिन सामने होता हैं और मन सबसे उब चूका होता हैं .लेकिन तभी कोई ऐसी खबर मिलती हैं जो आपको आश्चर्य और ख़ुशी दोनों एक साथ दे जाती हैं ,ऐसा ही कुछ आज मेरे साथ हुआ.आरोही को स्कूल छोड़ कर आने के बाद जब मैंने कम्प्यूटर ऑन किया ,और आरोही ब्लॉग खोला तो देखा की आदरणीय अविनाश वाचस्पति जी का कमेन्ट आया हैं जिसमे उन्होंने बताया हैं की मेरी पोस्ट "खोये खोये से रिश्ते " http://aarohijivantarang.blogspot.com/2010/08/blog-post.html  आज दैनिक जनसत्ता में छपी हैं .बड़ा अच्छा लगता हैं जब अपने मन की भावनाए लोगो तक पहुँचती हैं ,लोग उन्हें समझते हैं .
 देखिये पेज नुम्बर 4 समांतर "खोये खोये से रिश्ते "
http://www.jansattaraipur.com/

अगर मुझे आप  सभी ब्लोगर्स का प्यार और आशीर्वाद,दुआए  नही मिलती  तो मैं कभी लिख नही पाती मैं आप सभीकी आभारी हूँ .
साथ  ही आभारी हूँ आदरणीय लावण्या जी ,रंजना दी ,अविनाश जी ,अजित दादा ,प्रवीण पाण्डेय जी,संगीता स्वरूप जी ,अभिषेक ओझा जी ,आशा जोगलेकर जी ,अनुराग जी ,डॉ.रामकुमार जी ,आशीष जी ,विनोद शुक्ल जी ,दिनेश राय द्विवेदी जी ,राज भाटिया जी ,अजय कुमार झा जी ,दीपक शुक्ल जी ,धीरू सिंह जी ,ज्ञानदत्त पाण्डेय जी ,पंकज जी ,निर्मला कपिला जी ,समीरलाल जी ,शिवकुमार मिश्र,संजय भास्कर ,अनूप शुक्ल,महेंद्र मिश्र जी  और सभी पाठको और ब्लोगर्स से जिन्होंने समय समय पर अपनी टिप्पणियाँ देकर मुझे प्रोत्साहित किया .

13 comments:

  1. बहुत बहुत बधाई...आपके काम को एक दिन इस से भी अधिक प्रसिद्धि मिलेगी...आप में विलक्षण प्रतिभा है और वो सामने आएगी ही क्यूँ के प्रतिभा को अधिक देर तक नहीं दबाया जा सकता...शुभकामनाएं...
    नीरज

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत बधाई हो आपको। यह उपलब्धि आपकी प्रतिभा की प्राकृतिक अभिव्यक्ति है।

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत बधाई ....यह आपकी अपनी प्रतिभा है ....आपको जीवन में बहुत सी उपलब्धियां मिलें यही शुभकामना है ...

    ReplyDelete
  4. सुगंध कभी कैद रह सकती है...वह तो फैलेगी ही फैलेगी...
    आभार तो उस ईश्वर का है...वे इसी प्रकार सुविचार का प्रसार करते रहें,यही उनसे प्रार्थना है..
    तुम्हारे सुसंस्कृत विचार किसी भी सुहृदय के ह्रदय को सरलता से छूने में सक्षम हैं,इसलिए यदि कोई प्रशंसक बने तो इसके लिए तनिक भी आश्चर्य न करो...
    सतत सार्थक सकारात्मक रचते रहो.... अनंत शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  5. बिल्‍कुल वैसे ही सुखद आश्‍चर्य सी यह पोस्‍ट है। हम सबके मन में ऐसी ही नेक भावनाएं समाई रहती हैं, बस देखना होता है कि वे कब सिर उठाती हैं और सबको अपने दर्शन देकर राह नई दिखलाती हैं। मेरी ई मेल आई डी avinashvachaspati@gmail.com पर लिखिएगा तो मैं आपकी प्रकाशित पोस्‍ट की स्‍कैनप्रति भिजवा दूंगा जिसे आप चाहें तो अपने ब्‍लॉग पर एचटीएमएल कोड के जरिए लगा सकेंगी। एक बार इस पोस्‍ट के लिए मन से आभार।

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत बधाई!


    क्या आप "हमारीवाणी" के सदस्य हैं? हिंदी ब्लॉग संकलक "हमारीवाणी" में अपना ब्लॉग जोड़ने के लिए सदस्य होना आवश्यक है, सदस्यता ग्रहण करने के उपरान्त आप अपने ब्लॉग का पता (URL) "अपना ब्लाग सुझाये" पर चटका (click) लगा कर हमें भेज सकते हैं.
    सदस्यता ग्रहण करने के लिए यहाँ चटका (click) लगाएं.

    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  8. badhai ! (abhi hindi mein type nahin ho raha)

    ReplyDelete
  9. congrats! Sambandh bhi jeevan ke liye bahut aavashyak hote hain aur shayad sabse kimati bhi.

    ReplyDelete
  10. बहुत बहुत बधाई राधिकाजी।
    आपने जो फोटो यहां लगाया है उसे क्लिक करने पर वह उतना ही बड़ा रहता है। यानि उसे पढ़ा नहीं जा सकता। दूसरा, आपने जो जनसत्ता का लिंक दिया है वहां भी शायद यह रोजाना अपडेट होता है तो आपका लेख वहाँ भी नहीं दिख रहा। सबसे बढ़िया तरीका है कि आप अविनाशजी ने स्कैन कॉपी मंगवा लें और फिर उसे यहां लगायें।

    ReplyDelete
  11. बहुत बहुत बधाई राधिका जी ।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणिया मेरे लिए अनमोल हैं

"आरोही" की नयी पोस्ट पाए अपने ईमेल पर please Enter your email address

Delivered by FeedBurner