Thursday, November 12, 2015

भंवरा बावरा -बावरा

 आज भोर मन कुछ गुनगुनाते हुए  जागा। ठंडी पुरवाई ने  रिमझिम के  संग जैसे शब्द भी अनंत पर बिखेर दिए हो।
कुछ क्षण यु ही बीते ,फिर बरबस ही वह शब्द सुरों का संग ले मेरी गायत्री वीणा से मुखरित हो घर में मधु वर्षा करने लगे ,दीवारो  प्रतिध्वनित होते हुए उन्हें मैंने सुना, रोज रोज डाली - डाली क्या लिख जाये भंवरा बावरा - बावरा . मैं मुग्ध ह्रदय बर्तनो की खड़खड़ से ताल दे गीत की वाक्य रचना को वाह -वाही देने लगी ,भंवरा बावरा -बावरा। … वाह -वाह.

बड़ी सुन्दर प्रात :बेला थी ,सप्तरंगी इंद्र-धनुष आसमान पर आसन लगा मुझे अपने रंगो में डूब जाने को विवश कर रहा था ,सामने शिव मंदिर  लगे वृक्ष उनके प्रेम-पत्र  पवन के झोके से ;पुष्पों की चुनरी संग बहा उनकी प्रिया अर्थात मुझ तक पंहुचा रहे थे।  वह विविध रंग फूल सप्तरंगो से सजे इद्रधनुषी हिंडोले पे विराजित हो ' जीवन सौंदर्य स्वरूप ' यह सन्देश इस जीवनकथ्य नायिका को बतला रहे थे।

  मैंने अपने ओठो पर  कॉफ़ी का मग लगाया ,मेरे ओष्टो ने गीत गुनगुनाना बंद किया ,पन मन भ्र्मर अद्यपि गुनगुना रहा था। …बावरा -बावरा।

अखबार के प्रथम पृष्ठ पर नज़र डालते ही समाचार दिखा "Death,Destruction in Neighborhood" ..
भारत के तीन पडोसी देशो में अनेक प्राकृतिक आपदाओ के चलते लाखो लोगो ने प्राण गवाए।  धप से  समाचार पत्र का मुंह बंद किया।  सुन्दर समाचार की आशा में मराठी समाचार पत्र को तरेरा . " मालनीवर माटी ओतुन सम्पूर्ण ओळख पुसनार ! यह खबर थी महाराष्ट्र के मालिन गांव में  धरती धसने के कारण पूरा गांव माटी में गड के नष्ट हो जाने की।
मेरा मन अभी भी जीवन का सुन्दर  स्वप्न  मुझे सुना रहा था और मेरी आँखे जीवन का सत्य ,जीवन की विभीषिका दिखला रही थी।

प्रकृति कोप ,मृत्यु ,जीवन का सर्वनाश…
 जीव हत्या ,प्रिय बिछोह ,अन्न -जल त्रासदी…
लज़्ज़ा -हरण ,भीत - वदन ,ह्रदय -खंडन ……

 त्राहिमाम् ....... त्राहिमाम् ....... त्राहिमाम् ....... 

मैं चिल्ला उठी ,लड़खड़ाते -गिरते - कँपकँपाते घर के देवालय की और भागी।
सामने माँ त्रिभुवन सुंदरी की मूर्ति के सामने गिरकर विव्हल कंठ से भयनाद करने लगी ,त्राहिमाम् शरणागतम।
माँ त्राहिमाम् शरणागतम।

मेरी मुंदी हुई आँखों से अश्रुधारा बहती रहती ,समय सम्राज्ञी अपनी धीर गति में मेरे अश्रुओ को आबादित कर चंचल - विचल बहती रही।

आँखे खुली, बरखा रानी बादलो के संग कदाचित मेरे मित के देश ,मेरी व्यथा का गान सुनाने जा पहुंची थी।  बड़बोली कही की  …  अब हर बात पी को सुनना आवश्यक तो नहीं।

अंतर्मन भ्र्मर सत्य बाणों से छिद्रित लहुमय होने के उपरांत अब शांत हो चूका था। न प्रभाती का गीत था ,न जीवन की वेदना।  मैंने  शांत भाव से माँ मातंगी को देखा ,उसके श्याम वर्ण पर करुणा की रक्तिम आभा छलक रही थी।

मन की गति और भी धीमी हुई ,मानो कोई धड़धड़ाती हुई लौहपथ गामिनी तय गंतव्य स्थान तक पहुँचने के मद में गज -गति से झूमती -झूलती चल रही हो।

समाचार पत्रो पर पुनः नज़र डाली।

कुछ असह्य क्रंदन करते चेहरों के चित्र दिखे ,कुछ ;यहाँ सब कुछ था -अब कुछ नहीं की विवशता को बखानते सन्देश।

एक चित्र में चीन की एक महिला अपनी शहर के मलबे पर बैठी थी ,उस मलबे में दबे थे उसके परिजन ,उसके घर गृहस्थी का सामान ,उसके सुन्दर स्वप्न।

मैं स्वयं से कहने लगी ,इस स्त्री के पास कल तक सब कुछ था  आज उसका नाम: शेष ,फिर भी संयत !
यह इसके जीवन का अंत हैं या प्रारम्भ ?

मस्तिष्क ने कहा अंत ,ह्रदय ने कहा प्रारम्भ ! 

चीन की वह महिला ही क्यों ,न जाने कितने लोग रोज जीवन को इस दशा में पाते है जब सारा संसार उनके सब कुछ के अंत पर शोक मनाता हैं। उनके सामने कुछ नहीं होता ,अब तक जिए उनके इतने साल ,उनके संगी ,उनके प्रियकर ,उनकी उपलब्धिया ,उनके पारितोषिक ,उनके विश्वास ,उनकी सुख  - सम्पत्ति सब के सब किसी न किसी रूप में माटीमोल हो जाते हैं। शेष रहती हैं तो केवल जिजीविषा ,आत्मविश्वास और जीवन पर श्रद्धा।

मैंने स्वयं से कहा ,मैं किस -किस से घबराती हूँ ? मैं ही क्यों हम सब ही समय-असमय  न जाने किन -किन से घबराते हैं।  कभी संपत्ति खो जाने का भय ,कभी नाम -बदनाम होने का भय ,कभी अपनों से बिछुड़ने का भय। कपोल - कल्पित यद्यपि अघटित अनजानी  का भय ,सदा सर्व हमारे अंतर्मनो में समाहित -विराजित -स्थापित ,अनाम भय।

कुछ इन्ही विचारो में खोयी थी की बालकनी में सजे  पुष्पवाड़े में कही से अचानक एक भ्र्मर आकर स्थित हो गया।  पुष्पों से रस - गंध लेता वह मेरे शयन कक्ष में लगी ट्यूबलाइट पर जा बैठा ,शायद उसे तीव्र गर्मी महसूस हुई।,अधजले पंखो से उड़ता वह पुनः पर्णकुटिका में पहुंच हरित पर्ण पर विश्राम करने लगा।

मैंने स्वयं से कहा मैं क्यों डरती हूँ ? जीवन रूपी पुष्प वाटिका में मधु हैं ,रंग हैं ,रस हैं ,गंध हैं  तो कंटक  हैं ,किटक हैं ,कटुरस हैं ,काली माटी हैं और फिर कैवल्य भी हैं।

आत्मन रूपी भ्र्मर न जाने कितने शरीर ले हर जन्म में इस डाली से उस डाली बैठ जीव - लीलाये करता हैं ,कभी जीवनरस पिता हैं ,कभी कंटक-कुसुमावली  में फंस छिन्न-विछिन्न हो जाता हैं ,पुनः मधु रस पी मधुर-सुमधुर हो जाता हैं।  शरीर न बदले तो हो तब भी एक ही शरीर में रह कितनी बार मृत्यु का वरण कर, कितनी ही बार नवजीवन का प्रारम्भ करता है ,अंत और आरम्भ से लिखे इस प्रारब्ध से ही जीवभ्र्मर जीवन का इतिहास लिखता हैं।

शंका -कुशंका ,शोक -दुःख ,भय -त्रास के बादल अब छट चुके थे ,सुवर्णरवि अपनी स्वर्णकिरणो से मेरे मेरे ह्रदय को आरोग्य दे रहा था। मन पर स्वर्णरश्मियाँ कुछ कुरेद रही थी मैंने वह शब्द पढ़े, शांत उच्छ्वास छोड़ ,पुनः पूर्ववत मुस्कुरा मैं उन शब्द को गुनगुनाने लगी .... रोज -रोज डाली -डाली क्या लिख जाए भंवरा बावरा -बावरा।

No comments:

Post a Comment

आपकी टिप्पणिया मेरे लिए अनमोल हैं

"आरोही" की नयी पोस्ट पाए अपने ईमेल पर please Enter your email address

Delivered by FeedBurner