Thursday, October 16, 2008

माँ तुम कहाँ खो गयी ?

पिछले दिनों पंचगनी और महाबलेश्वर जाना हुआ,हमारे शहर से तक़रीबन १७-१८ घंटे का सफर तय करके हम वहां पहुँचे । एक तो पंचगनी में ट्रेन जाती नही और मुझे बस भाती नही ,बस देखकर ही मुझे गुस्सा आने लगता हैं ,पर फ़िर भी एसी बस में भगवान का नाम लेते हुए ,आरोही को पतिदेव को सँभालने देकर, आखें मूंद कर; सोते सोते किसी तरह सफर पुरा किया । इतने लंबे सफर के बाद लग रहा था की कहाँ से यहाँ आ गये इतनी दूर .लेकिन बस से उतरते ही जब मैंने पंचगनी का प्राकृतिक सौंदर्य देखा तो सारी थकान उतर गयी ,तीन दिन कब खत्म हो गए पता ही नही चला , दूर दूर तक फैले पहाड़ ,उन पहाडो पर बिछी वृक्षो - पौधों की हरी चादर ,कहीं कहीं पीले रंग के फूलो से ढकी पर्वत श्रृंखलाऐ ,सुंदर वादियाँ,सुनहली धुप ,कभी हल्की छाव,ठंडी हवा ,कभी पंछियों का कलरव , कल कल ,छल छल बहते झरने ,यह सब स्वपन सा सुंदर ।

हमें नही पता था की हमारी कल्पना से अधिक नैसर्गिक सौंदर्य हमें महाबलेश्वर में देखने को मिलेगा,महाबलेश्वर पर मानो शिव और शिवा की विशेष कृपा हैं ,वहाँ की नैसर्गिक सुन्दरता का वर्णन करने के लिए मेरे पास शब्द नही हैं , मुझे नही लगता की कोई कविता,कोई आलेख ,कोई चित्र उस प्राकृतिक सुंदरता का सही- सही और पुरा वर्णन कर पायेगा/पायेगी , प्रकृति के उस सुंदर रूप को मैंने अपनी आखों में बसा लिया हैं।

कहते हैं माँ सिर्फ़ वही नही होती जो जन्म देती हैं ,माँ वह होती हैं जो पालती हैं ,पोसती हैं ,संरक्षण करती हैं ,इस अर्थ से प्रकृति भी हमारी माँ ही हुई न ! वहाँ जाकर मुझे भी कुछ ऐसा ही लगा जैसे मैं अपनी माँ की गोद में सर रखकर बैठी हूँ , माँ मेरे मन को अपने प्रेम से परिपूर्ण कर रही थी ,अपनी उपस्तिथि से मुझे आत्मिक शांति और आनंद प्रदान कर रही थी ।
हम में से शायद ही कोई होगा जिसे प्राकृतिक सौंदर्य से घृणा हो ,जिसे अपने आस- पास पेड़ पौधे देखना पसंद न हो ,जिसे पेडों की छाया में खड़े रहना ,नरम घास /दूब पर चलना पसंद न हो ,जिसे फूलो की सुगंध से नफ़रत हो ।
हम सभी उन स्थानों पर घुमने जाना पसंद करते हैं ,जहाँ पेड़ पौधों से हरियाली हो,इसलिए हम अपने आस पास उद्यान (गार्डन )बनाते हैं ,सुबह शाम वहाँ घुमने जाते हैं ।

प्रकृति हमारी माँ हैं उसने हमें धुप ,गर्मी ,मौसम की मार से हमेशा संरक्षण प्रदान किया हैं ,शुद्ध हवा दी हैं ,फलफूल ,भोजन दिया हैं । फ़िर भी हमने उसके साथ क्या किया ?अपने घर बनाने के लिए ,शॉपिंग मॉल बनाने के लिए ,फेक्ट्री बनाने के लिए उसे ही खत्म किया हैं .हर बार एक घर के लिए ४ -८ वृक्ष कटते हैं ,शहरो में हरी धरती देखना किस्से कहानियो की बात हो गयी हैं , साफ हवा की तो क्या कहिये ,रात के दस -१२ बजे भी वाहनों का धुआं वातावरण में इस कदर घुला मिला रहता हैं , उस समय भी वाहनों के धुएँ वाली हवा के कारण घुटन होती रहती हैं । कभी कभी सोचती हूँ आरोही जब बड़ी होगी तो उस समय ये बची खुची प्राकृतिक सुंदरता क्या उसे या उसके बच्चो को देखना नसीब होगी ?

जब भी कभी मेरे सामने एक पेड़ कटता हैं ,मेरे मन जोर जोर से रोता हैं ,उस पेड़ काटने वालो से पूछता हैं ,निर्दय मनुष्य इस सुंदर ,निर्दोष वृक्ष ने तुम्हारा क्या बिघाडा हैं ?यह तो मात्र थोड़ा सा पानी मांगता हैं ,निस्वार्थ भाव से ,सभीको ,छाया देता हैं .कभी सुंदर फूलो से तुम्हारे घर के सामने की राह को ढक कर तुम्हारे घर को सजाता हैं ,कभी स्वादिष्ट फलो से बच्चो के हृदयों को आनंद से भर देता हैं । पर हज़ार चाहने के बाद, कोशिशों के बाद भी पेड़ कटता हैं ?हरी भरी वसुंधरा ,पत्थरों की मीनार में ,हवेली में ,बंगले में ,फेक्ट्री से निकलने वाले रसायनों से जलकर ख़त्म होकर ,मरुभूमि में बदल जाती हैं । और मैं प्रकृति माता से माफ़ी मांगती हुई उसे पुकारती रहती हूँ ,पूछती रहती हूँ माँ तुम कहाँ खो गयी ?

8 comments:

  1. कहते हैं माँ सिर्फ़ वही नही होती जो जन्म देती हैं ,माँ वह होती हैं जो पालती हैं ,पोसती हैं ,संरक्षण करती हैं ,इस अर्थ से प्रकृति भी हमारी माँ ही हुई ना।
    जब भी कभी मेरे सामने एक पेड़ कटता हैं ,मेरे मन जोर जोर से रोता हैं।

    अच्छा लिखा आपने। पर आजकल कौन सोचता है ऐसे।

    ReplyDelete
  2. बहुत सही लिखा है आपने ....इस तरह से जागरण की आज के वक्त में जरुरत है ..

    ReplyDelete
  3. bahut sundar parikalpnaa, aaj maa kaa ek naya roop aur adbhut swaroop dikhyaa aapne, kaash ki sab soch pate aisaa. likhtee rahein.

    ReplyDelete
  4. सही है....पृथ्वी भी हमारी मां ही है....पर आज किसी को यह याद नहीं.... धन्यवाद , आपने अपने लेख के माध्यम से सबों को याद दिलाया.... मां खोयी नहीं हे.... भूला दी गयी है....शीर्षक होना चाहिए था..'मां तुझे कहां भूला दिया गया ?'

    ReplyDelete
  5. बची खुची सुन्दरता क्या बच्चों को नसीब होगी ? बचेगी तब तो /पहले वीणापाणी ब्लॉग पर गया किंतु वहां राग रागिनी मिले तो सोचा =रागों से क्या काम हमें हम तो गानों से बंचित हैं /आगे को चलो छोड़ इसको सब भावः ह्रदय में संचित हैं ""तो यहाँ आगया बहुत ही साहित्यिक भाषा में विवरण पढने को मिला /प्रकृति जितनी सुंदर होती है उससे ज़्यादा सुंदर रचना मिली -शब्दों का चयन ऐसा जैसे माला में चुन चुन कर मोती पिरोदिये हों -और चित्रण ऐसा कि कि जैसे हम पढ़ भी रहे हों और देख भी रहे हों /ऐसे ही चित्रण की कला कभी मुंशी प्रेमचंदजी की कहानियो में देखने को मिलती थी -इसे कहा जाता है सजीब चित्रण

    ReplyDelete
  6. बहुत सुँदर विवरण किया है महाबलेश्वर पर वाकई शिव शिवा की कृपा रहती है मैँ भी कई बार वहाँ रही हूँ और ड्रीमलैन्ड और रेस -व्यु होटेल की यादेँ
    हैँ और बाज़ार मेँ ईरानी आँटी थ्रीटी की दुकान भी जहाँ से हम फ्रेश क्रीम लेते थे और स्ट्रोबेरी खरीदकर मिलाकर खाते थे :) और मेरी सिल्क का कपडा और मोती की तैयार पट्टीयाँ देकर सीलवाई कई सारी कोल्हापुरी चप्पलेँ भी पहनी हैँ वहाँ के कारीगरोँ की बनाई हुई -सब याद आ गया ~~ विशेष तौर से पँचगनी और महाबलेश्वर का प्राकृतिक सौँदर्य !!

    ReplyDelete
  7. महाबलेश्वर नाम सुन कर भी ऎसा लगता है किसी देवता का नाम ले रहै हो, आप ने वर्णन बहुत ही सुन्दर शव्दो मे किया, ओर शव्दो मे ऎसा बांधा कि दिल करता है झट से घुम आये,मेने सारी दुनिया देखी लेकिन अपना देश नही देखा, सच कहू मे जहां जहा भी गया हमेशा अपने देश को ही सुन्दर पाया, शायद इस लिये की वो मेरा अपना है, या फ़िर मने वहां जन्म लिया है, मेरा बचपन बीता है
    आप का बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. हमने ही खोया है.......उन्हें

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणिया मेरे लिए अनमोल हैं

"आरोही" की नयी पोस्ट पाए अपने ईमेल पर please Enter your email address

Delivered by FeedBurner